बैतुल-हरदा-हरसूद संसदीय क्षेत्र की नकली व फर्जी आदिवासी सांसद ज्योति धुर्वे को हटाने और असली आदिवासी का हक़ दिलाने हेतू अनिश्चित कालीन भूख हड़ताल जारी"

*दिनांक- 15/03/2018 को "बैतुल-हरदा-हरसूद संसदीय क्षेत्र की नकली व फर्जी आदिवासी(जनजाति) सांसद ज्योति धुर्वे को हटाने और असली आदिवासी(जनजाति) का हक़ दिलाने हेतू अनिश्चित कालीन भूख हड़ताल जारी"*
बैतूल के कुछ युवाओ *निमिष सरियाम(आदिवासी एकता मंच), ज्ञान सिंह परते(जयस प्रभारी), दिनेश उइके* के द्वारा आदिवासियों के हक ओर अधिकारों के लिए लड़ते हुए फर्जी जाति प्रमाण पत्र के द्वारा बनी बैतुल-हरदा-हरसूद संसदीय क्षेत्र की सांसद महोदया *ज्योति धुर्वे* को हटाने की मांग की जा रही है। युवाओ में यहां आक्रोश आदिवासियो की एवं सांसदीय क्षेत्र की निम्न समस्याओ के कारण व्यापत हुई हे जैसे:-
1/फर्जी जाति प्रमाण पत्र द्वारा फर्जी तरीके से सांसद बनकर आदिवासियों का हक छिनना ओर आदिवासियों की मांगों को न सुनना ओर शोषण करना।
2/संसदीय क्षेत्र में युवाओ के बीच बढ़ती हुई बेरोजगारी के कारण।
3/आदिवासी व अन्य गरीब मजदूरों का जिले से रोजगार और कार्य के लिए अन्य जिले में पलायन करना।
4/कृषि में प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल बर्बाद होने पर समय पे मुवावजा न दिए जाने के कारण।
5/गरीब आदिवासी किसानों की मेहनत से उगाई गयी फसल का सही व उचित मूल्य(कीमत) न मिलने के कारण।
6/आदिवासी(जनजाति) अंचल में घटिया शिक्षा प्रणाली लागू किये जाने जैसे 5वी ओर 8वी में बिना कोई बोर्ड परीक्षा लिए जनरल प्रमोशन किये जाने और सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी के कारण।।
7/आदिवासियों के लिए जिला मुख्यालय में जनसंख्या के अनुसार एक बड़े सामुदायिक भवन/वैवाहिक भवन का न होना।
8/नगर पालिका क्षेत्रो में आदिवासीओ के लिए आवंटित दुकानों को गैर आदिवासियों को दिए जाने के कारण युवा में व्यापार के क्षेत्र में बढ़ती हुई बेरोजगारी के कारण।
9/पड़ोसी जिले छिंदवाड़ा के विकास को देखते हुए बैतूल-हरदा-हरसूद सांसदीय क्षेत्र का विकास न के बराबर है। छिंदवाड़ा जिले की सड़को से लेकर शिक्षा व्यवस्था तक उच्च कोटि की है।
10/ उच्च शिक्षा हेतू जिले में कोई भी सरकारी मेडिकल कॉलेज , इंजीनियरिंग कॉलेज , कृषि महाविद्यालय का नही होना। ओर बैतुल जिले के लिए प्रस्तावित कृषि महाविद्यालय ओर मेडिकल कॉलेज का छिंदवाड़ा जिले में चले जाने के कारण। युवाओ में आक्रोश फैल हुआ है।
उपरोक्त निम्न समस्याओ पर वर्तमान सांसद महोदय द्वारा किसी भी प्रकार का ठोस कदम न उठाना ओर आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में आदिवासी(जनजाति) को नजर अंदाज किया जाने ओर उनके विकास हेतु योजनाओ का क्रियान्वयन सही ढंग से न किया जाना । आदिवासी समाज व युवाओ के लिए फर्जी आदिवासी सांसद पर आक्रोश का कारण है।
जल्द से जल्द शासन व प्रशासन द्वारा उचित कार्यवाही नही की जाती है, तो पूरे सांसदीय क्षेत्र में आदिवासी समाज, युवाओ द्वारा, ओर अन्य संगठन व गैर आदिवासी संगठन द्वारा व्यापक रूप से विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।
पहले दिन हड़ताल में निम्न लोग शामिल हुए - *महेश उइके(युवा बिरसा मुंडा समिति), सरवन परते, शंकर सिंह अहाँके(परिसंघ), राजेश कुमार धुर्वे(युवा आदिवासी विकास संगठन), राजकुमार ककोडिया, संदीप कुमार धुर्वे, सोनू कुमरे, विजय मरकाम, अनिल कुबड़े, रिंकू सक्सेना, अजय सोनी, रसीद खान, अरुण गुजरे, भूपेंद्र राठौर, दिलीप धुर्वे(समस्त आदिवासी समाज संगठन), अशोक कवडे* प्रवीण धुर्वे आदि।

*अनुरोध:-*पूरे लोकसभा क्षेत्र के भविष्य को ध्यान में रखते हुई और पूरे क्षेत्र के विकास के लिए इन युवाओं द्वारा उठाये गए साहसी कार्य और इरादा को सलाम करते हुए हड़ताल में अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर सहयोग प्रदान।

Comments

समाज के प्रीति थोड़ी सी ईमानदारी तो जरूरी है भाई चाहे वो सांसद हो या आम नागरिग हम सभी का फर्ज है कि हम अपने समाज के प्रीति थोड़ी ईमानदारी से काम करे'?

बेतुल हरदा संसद ज्योति धुर्वे जिन्होंने फर्जी जाती प्रमाणपत्र बनाकर हमारे हक को छीना है उसे हैम लेकर रहेगे हम सब आपके साथ है जेय सेवा

Add new comment

9 + 8 =